अपनाओ भ्रष्ट तरीका और कमाओ पैसा

मेरा एक दांत कीड़ा लगने से खराब हो रहा था । मैं उसके इलाज के लिए पास के दंत-चिकित्सक के पास गया । मुझे राय दी गयी कि दांत की ‘कैपिंग’ करवा लूं तो वह वर्षों काम दे देगा । कैपिंग में दांत को चारों ओर से थोड़ा घिस दिया जाता है और उसके ऊपर विशेष प्रकार के ‘सीमेंट’ के द्वारा धातु का एक नपा-तुला खोल चढ़ा दिया जाता है । मैंने हांमी भर दी । मुझे अगले दिन फिर आने के लिए कहा गया ।

मैं अगले दिन निर्धारित समय पर दांत के उस चिकित्सक के पास पहुंच गया । चिकित्सक ने उस तकनीकी कर्मकार को भी बुला रखा था जिसने ‘पेरिस आफ् प्लास्टर’ के माध्यम से मेरे खराब दांत का सांचा तैयार करना था । उस समय चिकित्सक की क्लिनिक में तीन अन्य लोग पहले से ही बैठे हुए थे और उसके साथ बातचीत में मशगूल थे । मैं दंत-चिकित्सा के लिए बने विशेष कुर्सी पर बैठ गया । वहां पहुंचे कर्मकार ने अपना कार्य आरंभ कर दिया । उसने चिकित्सा औजारों की मदद से दांत को चारों ओर से घिसा । फिर ‘प्लास्टर आफ् पेरिस’ की गाढ़ी, लगभग ठोस-सी, लुगदी बनायी और अपना धातुकीय उपकरण प्रयोग में लेते हुए उस लुगदी से दांत का सांचा तैयार किया । पूरा कार्य चुपचाप शांति से संपन्न हो गया । मेरे अनुमान से उस कार्य में दस-पंद्रह मिनट लगे होंगे ।

इस दरमियान मैं तो बोल नहीं सकता था । वह कर्मकार भी शांत रहा । फलतः चिकित्सक समेत वहां मौजूद चारों लोगों की बातचीत हम आराम से सुन सकते थे । उन लोगों की बातचीत कहां से और कैसे आरंभ हुयी थीं यह तो मैं नहीं जानता । हां, मेरी मौजूदगी में वे आपस में जो कुछ कह रहे थे उसे में समझ पा रहा था । उनके मुख से जो शब्द निकल रहे थे वे चौंकाने वाले तो थे ही, मेरी समझ में वे किसी भी भले आदमी को विचलित कर सकते थे । हमारे समाज में भ्रष्टाचार का कोढ़ कितना गहरे और कितने व्यापक स्तर पर फैला है इस बात का अंदाजा उनके वार्तालाप से मिल रहा था । वहां पहुंचे तीनों आगंतुकों में से एक ही व्यक्ति चिकित्सक से बातें कर रहा था, शेष दो उसकी बातें केवल सुन रहे थे । उस वार्तालाप के शब्द तो मुझे यथावत् याद नहीं, किंतु बातें कुल मिलाकर इस प्रकार हो रही थीं:-

आगंतुक, “अगर आप कहें तो वहां आपके ट्रांसफर की कोशिश करूं । कोई पचास हजार का इंतजाम करना होगा । इतने से काम बन जायेगा ।”

चिकित्सक, “इतना खर्च करें ? भला कितना फायदा होगा ट्रांसफर से, और कैसे ?”

“आपने तो वहां की ओ.पी.डी. देखी होगी । कोई डेड़ सौ मरीज आते हैं दिन भर में …”

“नहीं, मुझे अधिक आइडिया नहीं है । यूं मैं उस अस्पताल से कोई दो हफ्ते अटैच रही हूं । खैर, आगे बोलें ।”

“हां, तो संडे और छुट्टियों को मिलाकर देखें तो कह सकते हैं कि औसतन करीब-करीब सौ मरीज तो रोजाना आते ही हैं । अगर उनमें से पच्चीस-तीस को भी एक्स-रे के लिए कहा जायेगा तो आपको तीस रुपये प्रत्येक के नाम पर मिलेगा ही । करीब आठ सौ रुपये तो हर रोज के ऐसे मिल ही जाने हैं । कम से कम दो सौ तो औरों की दवा बगैरह के नाम पर अपने पास आना ही है । इस प्रकार हजार-एक हर दिन का मिलना ही है ।”

मैं समझ गया कि पैसा कहां से आना है । मैंने सुन ही रखा था कि एक्स-रे एवं पैथॉलॉजी लैब में किये जाने वाली जांचों का कमिशन चिकित्सकों को मिलता है और दवा की दुकानों से भी । उक्त वार्तालाप में उसी कमिशन का संकेत था । मामला सरकारी अस्पताल का था जहां चिकित्सकीय जांच-पड़ताल की व्यवस्था ध्वस्त रखी जाती है, ताकि मरीजों को बाहरी परीक्षण-केंद्रों पर जांच के लिए मजबूरन जाना पड़े और बदले में वहां से चिकित्सक को कमिशन मिल सके । वाह रे मेरा देश महान् !

“लेकिन काम का बोझ तो ज्यादा ही होगा ।” चिकित्सक ने कहा ।

आगंतुक, “अरे नहीं, सुबह करीब आठ बजे से करीब दिन के दो बजे तक । तब तक सब निबट जाता है । उसके बाद आराम करिये, या मन हो तो शाम को थोड़ा प्रैक्टिस कर लें ।”

वार्तालाप चल ही रहा था कि दांत के सांचे का मेरा कार्य संपन्न हो चुका था । मैंने दंत-चिकित्सक से इजाजत ली । मुझे आगंतुक तथा उसके बीच चल रही बातचीत सुनने में बेचैनी हो रही थी । आगे कुछ और सुनूं यह मैं नहीं चाहता था ।

घर लौटते समय मेरे मन में यह सवाल रह-रहकर उठ रहा था कि क्या भ्रष्टाचार इस देश का स्थायी राष्ट्रीय चरित्र बन चुका है । चोरी-छिपे भ्रष्ट तरीकों से धन कमाने की बातें पहले भी सुनने में आती थीं, किंतु अब कैसे-कैसे हथकंडे अपनाये जायें इसकी चर्चा खुलकर होती है । अंधाधुंध धन कमाने से मतलब, जैसे भी हो, उसमें बुराई ही क्या है ? स्वयं को विश्वगुरु तथा धर्मपरायण कहने वाले और भौतिकवाद के लिए पाश्चात्य देशों को कोसने वाले देश का हाल है ये । भगवान् भी बचाने से रहा अब तो ! – योगेन्द्र

1 टिप्पणी

Filed under अनुभव, आपबीती, कहानी, किस्सा, भ्रष्टाचार, मानव व्यवहार, लघुकथा

One response to “अपनाओ भ्रष्ट तरीका और कमाओ पैसा

  1. स्वयं को विश्वगुरु तथा धर्मपरायण कहने वाले और भौतिकवाद के लिए पाश्चात्य देशों को कोसने वाले देश का हाल है ये । भगवान् भी बचाने से रहा अब तो !

    bahut umda

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s