पशु-पक्षियों की बोली: शिक्षाप्रद एक कथा

मैंने बहुत पहले कभी शिक्षाप्रद एक लघुकथा पढ़ी थी । अब उस कथा का अक्षरशः उल्लेख नहीं कर सकता, किंतु उसमें जिस मानवीय कमजोरी का जिक्र था और जो शिक्षा उसमें उद्दिष्ट थी उसका स्मरण आज भी मुझे है । कथा कुछ प्रकार थी:

एक महात्मा विचरण करते हुए एक गृहस्थ के पास पहुंचे । गृहस्थ ने उनका पर्याप्त आदर-सत्कार किया । बातों-बातों में उन्होंने गृहस्थ को बताया कि वे पशु-पक्षियों की बोली समझते हैं । उसके पास से अपने आश्रम लौटते समय उन्होंने व्यक्ति को आशीर्वचनों से उपकृत करना चाहा । वे बोले, “कहो, क्या आशीर्वाद दूं मैं तुम्हें ? तुम किस दिशा में आगे बढ़ना और सफल होना चाहोगे ?”

महात्मा ने गृहस्थ को उसकी इच्छाओं के अनुरूप आशीर्वाद दिया । उनके विदा होते समय गृहस्थ ने एक और मांग उनके सामने रख दी । उसने कहा, “महाराज, आपने कहा है कि आप पशु-पक्षियों की बातें समझ सकते हैं । आप यदि मुझ पर प्रसन्न हों तो कृपया वह विद्या मुझे भी सिखाते जाइये ।”

महात्मा ने उसे समझाते हुए कहा, “देखो भाई, यह विद्या तुम्हारे काम की नहीं है । इसके प्रयोग से तुम्हें मानसिक कष्ट ही भोगना पड़ सकता है । न जाने कब कौन-सी बातें तुम्हारे कान में पड़ें और तुम चिंताग्रस्त हो जाओ । इस विद्या की इच्छा मत करो । अन्य जीवों की बातें सुनने से क्या लाभ ?”

लेकिन महात्मा की बातें वह गृहस्थ नहीं माना । अंत में उसने इच्छित विद्या पा ही ली । आरंभ में उस विद्या का कोई दुरुपयोग उसके हाथों नहीं हुआ । परंतु बाद में एक मौके पर उसने अपने पालतू कुत्ते तथा मुर्गे के बीच की बातचीत सुन ली । मुर्गे ने कुत्ते से कहा, “सुनो, अपने मालिक के घोड़े का पिछला एक पांव आज कुछ कांप रहा था । तुम्हें मालूम है कि इसका क्या मतलब है ?”

कुत्ते ने उससे कहा कि इस बारे में उसे कोई जानकारी नहीं । तब मुर्गे ने उसे समझाया कि घोड़ा कुछ ही दिनों में बीमार पड़कर चल बसेगा । वह गृहस्थ संयोग से उन दोनों की बातें सुन रहा था । उसने सोचा कि ऐसे घोड़े को अब पालने से क्या लाभ, क्यों न उसे बेचकर पैसा कमाया लिया जाये । और उसने घोड़े को बेच दियाख् जिसकी बाद में मौत हो गयी । गृहस्थ को पशु-पक्षियों की बोली जानने से क्या लाभ हो सकता है यह बात समझ में आ गयी । अब वह ऐसे हर वार्तालाप पर ध्यान देने लगा ।

कुछ समय के पश्चात् कुत्ते-मुर्गे की इसी प्रकार की एक और बातचीत उसके कान में पड़ी । मुर्गा बोला, “बेचारा गधे की हालत ठीक नहीं है । आज उसका पिछला पांव कांप रहा था । यह निकट भविष्य में उसकी सुनिश्चित मृत्यु का संकेत है ।”

इस बार भी वह अपने गधे को बाजार में बेच आया । समय बीता और पशु-पक्षी संवाद समझ पाने की अपनी सामर्थ्य का लाभ वह गृहस्थ यदा-कदा उठाता रहा । परंतु एक दिन उस विद्या के लाभ की उसकी खुशी जाती रही । उसने फिर कुत्ते-मुर्गे की परस्पर बातें सुनीं और उसके होस उड़ गये । मुर्गा कुत्ते से कह रहा था, “बहुत बड़ी चिंता की बात है, भाई । क्या बताऊं तुम्हें ! अपने मालिक की अगले वर्ष इसी माह मुत्यु का योग है । अगर मालिक ने अपने बीमार घोड़े-गधे दयाभाव से अपने ही पास रखे होते और उनकी यथासंभव तीमारदारी की होती तो उन्हें पुण्यलाभ मिला होता और उन्हें दीर्घायुष्य मिला होता । लेकिन अब कुछ नहीं हो सकता ।”

उनकी बातों से वह गृहस्थ घबड़ा गया । वह खोजते हुए महात्मा के आश्रम पर पहुंचा और वहां उसने अपनी व्यथा सुना डाली । महात्मा बोले, “अब देर हो चुकी है । यदि तुमने मेरी बात मान ली होती और उस विद्या में रुचि न ली होती तो तुम सुखी रहते । मुझे मालूम था कि तुम लोभ-लालच से नहीं बच पाओगे और उस विद्या का दुरुपयोग करोगे । बिरले ही होते हैं जो लोभ से अपने को बचा पाते हैं । अब जाओ और जीवन का शेष समय शुभकर्मों में लगाकर परलोक सुधारो ।”

गृहस्थ को निराश हो लौटना पड़ा । – योगेन्द्र

टिप्पणी करे

Filed under कहानी, नीति, मानव व्यवहार, लघुकथा

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s