किसिम-किसिम के गाहक मिलते हैं फल-सब्जी सट्टी मे

मेरे घर के निकट फलों एवं सब्जियों की सट्टी (बाजार) है । वहां तड़के सुबह इन चीजों की थोक तथा फुटकर दुकानें खुल जाती हैं और दोपहर 11-12 बजे तक कारोबार करती हैं । कुछ फुटकर दुकानें दिन भर भी खुली रहती हैं, अतः जरूरत की चीजें लगभग हर समय मिल जाती हैं । आम तौर पर वहां सुबह के समय ही भीड़ रहती है । मैं वहां से प्रायः एक या दो दिन के लिए साग-सब्जी और फल खरीद ले आता हूं ।

अभी जुलाई का महीना समाप्ति पर है और उसी के साथ जामुन का मौसम भी खत्म होने को है । आम का मौसम कुछ दिन और चलेगा । केला तो प्रायः सदा ही उपलब्ध रहता है । पपीता, सेब, अनार आदि भी अक्सर मिल जाते हैं । आजकल कई फलों की उपलब्धता साल भर रहती है; दामों में मौसमी उतार-चढ़ाव होना स्वाभाविक है ।

सब्जी-विक्रेता सामान्यतः जमीन पर सब्जियों की ढेरी लगाकर बेचते हैं, जब कि फल-विक्रेता ठेलों पर फल सजाए रहते हैं । कुछ चुने हुए विक्रताओं का मैं सालों से ग्राहक हूं अतः उनके साथ एक प्रकार की जान-पहचान हो चुकी है । वे जानते हैं कि मैं उनसे आम तौर पर न दाम पूछता हूं और न मोलभाव करता हूं ।

हां तो मैं बताने जा रहा था कि बीते कल मैं कुछ फल और सब्जियां खरीदने सट्टी गया था । सबसे पहले जामुन वाले के पास पहुंचा । जामुन ठीकठाक लग रहे थे । मैंने पूछा, “जामुन मीठे तो हैं न ? … आधा किलो तौल देना । ठीक-से देख लेना कि कोई सड़े-गले न हों ।”

वह मेरे लिए जामुन तौल ही रहा था एक खरीदार ठेले पर पहुंचे और बोले, “जामुन क्या हिसाब दे रहे हो भई ? मीठे तो हैं न ?” सवाल पूछते-पूछते वे दो-तीन दाने हाथ में लेकर मुंह में डालने लगे ।

दुकानदार जवाब देता है, “बाबूजी, बीस रुपये पाव चल रहा है ।”

“यह तो ज्यादा ले रहे हो । पंद्रह का लगाओ न ? आधा किलो लेंगे ।”

“बाबूजी, सीजन खतम हो रहा है । महंगा ही हमें मिल रहा है । पंद्रह का पड़ता ही नहीं ।” फल वाले ने जवाब दिया ।

“नहीं भई, ये तो महंगा है ।” कहते हुए वे सज्जन चल दिये ।

फल-विक्रेता मुझे जामुन की थैली थमाते हुए कहने लगा, “देखा बाबूजी, खरीदना था नहीं । दाम पूछने के बहाने तीन-चार दाने खा गए । कभी-कभी ऐसे भी गाहक आ जाते हैं, क्या करें !”

मैंने शब्दों में कोई प्रतिक्रिया व्यक्त नहीं की, बस मुस्कुरा दिया और आगे बढ़ गया । आगे आम वाले के पास पहुंचकर मैंने पके हुए किंतु थोड़े सख्त किस्म के आम छांटना शुरु किया । प्रायः सभी लोग फल-सब्जी छांटकर ही खरीदते हैं । एक सज्जन पहले से ही उस ठेले पर खरीदारी कर रहे थे । वे सेब और अनार खरीद चुके थे । आम खरीदने से पहले उन्होंने कीमत पूछी तो जवाब मिला, “50 रुपये किलो, सर ।”

मेरे ख्याल से आम खरीदने का विचार उनका तत्काल बना होगा । दाम पूछने के बाद ही तो उन्होंने सेब-अनार खरीदे होंगे ।  आजकल सब्जी-सट्टी में कुछ युवा विक्रेता संबोधन हेतु ‘सर’ शब्द का भी प्रयोग करने लगे हैं । वन-टू-थ्री-टेन-फिफ्टी जैसी अगरेजी गिनतियों का प्रयोग भी देखने को मिल जाता है । वस्तुतः अंगरेजी शब्द आम चलन में बोले जाने वाले हिन्दी शब्दों को विस्थापित कर रहे हैं । देश वाकई ‘आधुनिक’ हो चला है । खैर ।

वे जनाब बोले “अरे नहीं, कुछ कम करो । 45 रुपया लगाओ ।”

फल वाले ने दाम घटाने में अपनी असमर्थता जता दी । मेरी उपस्थिति में उन्होंने आधा-एक किलो आम खरीद लिए । फिर फल वाले से पूरा हिसाब पूछा, “कितने का हिसाब बना ?”

“अॅं … आपका किसाब हुआ दो सौ बीस रुपये ।” क्षण भर रुककर फल वाला बोला ।

“मैंने दाम कुछ कम करने को कहा था । … ये लो दो सौ रुपये ।”  जनाब ने पैसे दिए और चलने को उद्यत हुआ ।

“सर, बीस रुपये और दीजिए । इतना नहीं छोड़ पाऊंगा ।”

“अरे ठीक है, रखो इतना । कोई नये खरीदार थोड़े ही हैं तुम्हारे !”

“सो तो ठीक है, सर, लेकिन दो पैसे की कमाई नहीं होगी तो परिवार का पेट कैसे भरेगा !” फल वाले ने लाचारी व्यक्त की ।

“ठीक है, ठीक है, फिर कभी ले लेना । आते तो रहते ही हैं ।” कहते हुए वे चल दिए ।

मैंने खुद के छांटे आम उसके तराजू पर रखे और एक किलो आम खरीद लिए । उसे पचास का नोट पकड़ाते हुए मैं आगे बढ़ने को हुआ । वह पांच का नोट मुझे थमाने लगा तो मैंने पूछा, “ये क्या है ?”

“रख लीजिए । आप सोचेंगे … ।” उसने सफाई पेश करनी चाही ।

“अरे नहीं भई, मैं कुछ नहीं सोचूंगा ।” अपने चेहरे पर मुस्कुराहट लाते हुए मैंने उसे आश्वस्त किया और वहां से चल दिया ।

आगे चलकर मैं रुका सब्जी वालों के पास तीन-चार वक्त की सब्जियां खरीदने । सड़क के किनारे जमीन पर सब्जियां सजाए दो दुकानों में से मैं पहली पर रुका । बगल की दुकान से एक महिला धनिया, मिर्चा, अदरख, परवल बगैरह-बगैरह खरीदकर पौलिथीन के अलग-अलग थैलियों में भरवा रही थी । कुछ देर तक मैं जिज्ञासावश उसी सौदे को देखता रहा । अपेक्षया कम उम्र की सब्जी वाली उन थैलियों को एक-एककर बड़े पौलिथीन थैले मैं डालती जा रहा थी । मैं सोचने लगा कि वे चीजें मिलाकर दो-एक थैलियों में इकट्ठी रखी जा सकती थीं, पर ऐसा नहीं किया जा रहा था । वह महिला शायद उस मेहनत से बचना चाहती होगी जिसके तहत उसे घर पहुंचकर सभी चीजों को छांटते हुए अलग-अलग करना पड़ता ।

प्रायः सभी लोग पौलिथीन-जन्य पर्यावरण समस्या की बात करते हैं, परंतु तात्कालिक सुविधा हेतु उसके प्रयोग से बाज नहीं आते । क्या ही विडंबना है भारतीय समाज में ।

तभी मेरा ध्यान एक अन्य साइकिल सवार युवा ग्राहक की ओर गया जो अधेड़ उम्र की पहली सब्जी वाली से पूछ रहा था, “अरे चाची, ये प्याज क्या हिसाब दे रही हो ?”

“पेंसठ रुपये किलो चल रहा है ।” उसे जवाब मिला ।

“साठ का लगाओ न, सभी जगह तो साठ का बिक रहा है ।”

अनुभवी सब्जी वाली खरा-खरा बोलने में निपुण थी । वह बोली, “ठीक है भैया, जहां साठ का मिल रहा है वहीं से क्यों नहीं खरीद लेते ?”

मोलभाव के चक्कर में लोगबाग किसी चीज के कम दाम में मिलने की बात कर जाते हैं । उनका तीर कभी-कभार निशाने पर लग भी जाता है, किंतु उस ग्राहक के मामले में बात बनी नहीं ।

 “आपके यहां प्याज साफ-सुथरा, अच्छा मिलता है ।” कहते हुए उसने साइकिल एक ओर खड़ी की और पहुंच गया प्याज खरीदने । मैंने भी कुछ सब्जियां खरीद लीं और पकड़ ली घर की राह । राह में मेरा मन इसी विचार पर केंद्रित हो गया कि प्रकृति ने लोगों के व्यवहार को कितना वैविध्यमय बनाया है । किसिम-किसिम के लोग मिल ही जाते हैं हर जगह । – योगेन्द्र जोशी 

टिप्पणी करे

Filed under अनुभव, कहानी, मानव व्यवहार, लघुकथा, हिंदी साहित्य, experience, Hindi literature, human behaviour, Short Stories

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s