Tag Archives: वाराणसी जलकल

वह जिसकी आप चर्चा करते नहीं

क्या आपने कभी ऐसे व्यक्ति को देखा है जो सार्वजनिक मंच से यह कहे कि भ्रष्टाचार इतनी खराब चीज नहीं है कि उससे परहेज किया जाए? मैंने ऐसे किसी व्यक्ति को न कभी देखा है और न ही उसके बारे में सुना है। मेरा अपना ख्याल है कि यदि लोगों के बीच में से यादृच्छिक तरीके से किसी को चुन लिया जाए और उसे मंच से भ्रष्टाचार पर कुछ शब्द बोलने को कहा जाए तो वह भ्रष्टाचार की हिमायत नहीं करेगा, बल्कि उसके विरुद्ध ही बोलेगा। (यादृछिक = अंग्रेजी में रैंडम, यानी चुनने की कोई निर्धारित शर्त के बिना जिसे आंख मूंदके चुनना कहा जाएगा।) मेरे कहने का तात्पर्य यह है कि भ्रष्टाचार में लिप्त व्यक्ति भी सार्वजनिक तौर पर भ्रष्टाचार का विरोध ही करेगा। मेरा अनुमान है कि भारतीय समाज में भ्रष्टाचार का विरोध अधिकांशतः एक दिखावा होता है, उससे वास्तविक परहेज होता नहीं। मन ही मन सभी समझते होंगे कि परहेज करने लगेंगे तो जियेगे कैसे! बहुत से मौकों पर भ्रष्टाचार होते हुए भी लोगों को दिखता नहीं।

     मैं अपने एक हालिया अनुभव की चर्चा करता हूं। डेढ़-दो सप्ताह पूर्व मेरे गेट पर एक युवक पहुंचा। उसने बताया कि वह शहर (वाराणसी) के जलापूर्ति विभाग ‘जलकल’ से आया है और भवन-स्वामियों से मकान संख्या, उसके मूल्यांकन (टैक्स), पानी-टैक्स आदि की जानकारी इकट्ठा कर रहा है। उस जानकारी का प्रयोग भवनों पर वॉटर-मीटर लगाने में किया जाना था। यों तो यह जानकारी जलकल विभाग के पास होनी ही चाहिए, क्योंकि उसी के आधार पर तो जलापूर्ति की जाती है। किंतु सरकारी विभागों की कार्य-शैली ऐसी ही बेतुकी होती है कि अपने अभिलेखों को खंगालने के बजाय वे उपभोक्ता से पूछने लगते हैं। दिलचस्प बात यह है कि मीटर पहले से ही लगे हैं, परंतु उनकी रीडिंग होती नहीं। मेरे अपने मकान पर मीटर 25-26 वर्ष पहले लगा था। अब तक तो वह काम करना भी बंद कर चुका होगा। बता दूं कि वाराणसी में अभी तक जलापूर्ति “अन्मीटर्ड” है। लोग पानी की अंधाधुंध बरबादी करते हैं। सर्वजनिक स्थानों पर तो अक्सर पानी फालतू बहते दिख जाता है। “मीटर्ड” जलापूर्ति होने पर पानी की बरबादी शायद रुक सके, क्योंकि तब लोगों को खरचे गए पानी के अनुपात में कीमत चुकानी पड़ेगी।

हां तो मैं उस युवक की बात पर लौटता हूं। हमारा (घर का) नियम है हम गेट पर आए किसी भी आगंतुक का स्वागत चाय-पानी की पेशकश के साथ करते हैं। तदनुसार हमने उसको गेट के अंदर बुलाकर कुर्सी पर बिठाकर संबंधित कागजात दिखाए। साथ ही उनको मीठे के साथ ठंडा पानी पीने को दिया, जिसे उसने सहज रूप से स्वीकार कर लिया। इस दौरान उससे कुछ औपचारिक और कुछ अनौपचारिक बातें भी कर लीं।

वार्तालाप में उसने बताया, “मैं जलकल का कर्मचारी नहीं हूं, बल्कि उस क्षेत्र के जेई (जूनिअर एंजीनियर) द्वारा इस काम में लगाया गया हूं। … आप देख ही रहे हैं, इस समय काफी गर्मी पड़ रही है। ऐसे में जेई सा’ब कहां फील्ड में उतरने वाले। इसलिए उन्होंने यह काम मुझे सौंप दिया हैं।”

     मैं समझ गया कि माजरा क्या है। मुझे मालूम है कि कुछ सरकारी कर्मचारी मौका मिलने पर अपना कार्य दूसरों से करवाते हैं और बदले में कुछ पैसा उन्हें थमा देते हैं। इसे मैं नौकरी ‘सबलेट करना’ कहता हूं। प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालयों में ऐसा कभी-कभार देखने को मिल जाता है। कुछ अध्यापक विद्यालय से अनुपस्थित रहते हैं और अपने बदले बेरोजगार युवक/युवतियों को पढ़ाने भेज देते हैं ऐसा मेरे सुनने में आता है। ऐसा ही एक वाकया मुझे याद आता है। विश्वविद्यालय के मेरे विभाग में एक सफाई कर्मचारी आंखों से कमजोर हो चला था। अतः वह अपने बदले किसी और को विभाग में भेजता था। ऐसे अपवाद विश्वविद्याल्य में शायद एक-दो ही रहे होंगे।

     यह अप्रत्यक्ष भ्रष्टाचार का एक रोचक उदाहरण है। किसी सरकारी मुलाजिम द्वारा अपना काम स्वयं न करन सर्वथा अनुचित है। उस व्यक्ति का ऐसा आचरण और साथ में बेरोजगार का शोषण आम तौर पर किसी को कहां पता चलता है?

उस युवक से अधिक बात करने का मेरा मन नहीं हुआ। क्या पता वह अपनी बेरोजगारी का दुखड़ा सुनाने लगता, जिसे सुनना अच्छा न लगता। मेरे पास किसी की बेरोजगारी का कोई इलाज तो है नहीं।

     मुझे लगता है कि भ्रष्ट आचरण हम भारतीयों के चरित्र का अभिन्न अंग बन चुका है। मैं सोचता हूं किसी को भी अपने अनुचित आचरण को लेकर कभी आत्मग्लानि नहीं होती होगी। धर्मकर्म और पापपुण्य की बातें करने वाले समाज में आचरण संबधी विरोधास मैं कई मौकों पर देखता आ रहा हूं। – योगेन्द्र जोशी

 

 

Advertisements

टिप्पणी करे

Filed under administration, किस्सा, प्रशासन, भ्रष्टाचार, लघुकथा, हिंदी साहित्य, corruption, Hindi literature, Short Stories