Tag Archives: समाजिक विभाजन

दलित की हिम्मत कि विवाह का निमंत्रण दे !

मेरे पड़ोस में कुछ दलित बंधुओं के परिवार रहते हैं । वे लोग यहां के पुस्तैनी बाशिंदे हैं । कालोनी बनने से पहले उनके ही बाप-दादा यहां की जमीन के मालिक होते थे । जमीन तो बेच दी, किंतु उससे मिले पैसे का उचित निवेश वे लोग नहीं कर सके । लिहाजा उनकी आज की माली हालत कामचलाऊ से बेहतर नहीं कही जा सकती है । अस्तु, उन्हीं में से एक परिवार के युवक का विवाह कुछ माह पहले संपन्न हुआ । उस वैवाहिक कार्यक्रम का निमंत्रण पड़ोसी होने के नाते मेरी अनुपस्थिति में घर पर भी पहुंचा था ।

उस समारोह के कतिपय दिन पूर्व मैं घर से कुछ ही दूर सड़क के किनारे अपने अन्य पड़ोसी, तिवारीजी, से बातचीत में संलग्न था । तभी विवाह वाले परिवार के मुखिया (वर के पिता) बगल से गुजरते वक्त हमारे पास रुक गए । मैंने उन्हें बधाई देते हुए वैवाहिक कार्य के निविघ्न संपन्न होने की शुभकामना दी ।

उन्होंने मुझसे कहा, “मैं खुद आपके घर पर गया था कार्ड सौंपने, तब आप घर पर नहीं थे । आपको ब्याह में शामिल होना है । आपके आशीर्वाद के बिना काम नहीं चलेगा ।”

इतना कहते हुए वे तिवारीजी की ओर मुखातिब हुए और उनसे बोले, “आप भी याद रखें, आना जरूर है । आप लोग  भूलिएगा मत ।”

और इन शब्दों में अपनी बात कहकर वे आगे बढ़ गए । विवाह जैसे निजी सामाजिक आयोजनों में अपने परिचितों, मित्रों और पड़ासियों को आमंत्रित करने की प्रथा कमोवेश सभी जगह देखी जाती है । पड़ोसियों को निमंत्रण देना बहुधा एक प्रकार की विवशता होती है, क्योंकि आते-जाते रोज ही उनसे मुलाकात, दुआसलाम हो जाती है, भले ही एक-दूसरे के परिवार के साथ उठना-बैठना न होता हो । दरअसल दुनिया में सभी समाजों में व्यक्ति गिनेचुने लोगों से ही निकट संबंध बनाता है जो विशिष्ट अर्थ में उसके “समकक्ष” होते हैं । अन्य लोगों के साथ बहुधा औपचारिकता ही निभाई जाती है । अस्तु, बाद में मैं बारात में तो शामिल नहीं हुआ, लेकिन उसके उपरांत आयोजित “भोज” में सम्मिलित अवश्य हुआ ।

हां तो मैं वापस तिवारी जी के साथ की उस मुलाकात पर लौटता हूं । निमंत्रणदाता पड़ोसी के चले जाने के बाद वे कहने लगे, “देखा इन्हें ? शहर में होने की वजह से इनकी इतनी हिम्मत है कि हम-आप को निमंत्रण देते हैं । अपने गांव में होते तो इनकी ये हिम्मत होती ।”

इसके आगे जो कुछ भी उन्होंने कहा उसकी खास अहमियत नहीं है । असल मंतव्य उनका ऊपरिलिखित कथन स्पष्ट कर देता है । भारतीय समाज सदा से ही विविध आधारों पर विकट रूप से विभाजित रहा है । विश्व में शायद ही कोई समाज होगा जहां आर्थिक आधार पर गैरबराबरी और उसके कारण भेदभाव न बरता जाता हो । लेकिन अपने यहां तो क्षेत्रियता, धर्म, भाषा, और जाति, आदि सभी के आधार पर भेदभाव का बोलबाला है । कानूनी तौर पर भले ही जातीय भेदभाव वर्जित हो, व्यवहार में तो वह पग-पग पर दिखता ही है । तथाकथित अगणी जातियां आज भी दलित वर्ग के लोगों को हेय दृष्टि से ही देखती हैं । मेरा मानना है कि जब तक जातियां हैं – और वे रहेंगी ही – जातीय गैरबराबरी भारतीय समाज में बनी रहेगी । – योगेन्द्र जोशी

4 टिप्पणियां

Filed under अनुभव, कहानी, लघुकथा, समाज, हिंदी साहित्य, experience, Hindi literature, Short Stories, society